दयानिधि

भारत में 2019 में लगभग 12 लाख नए कैंसर के मामले और 9.3 लाख मौतें दर्ज की गई। कैंसर 2019 में एशिया में बीमारी के बोझ के लिए दूसरा सबसे अधिक जिम्मेवार रहा। दुनिया भर में अनेकों कारणों से कैंसर के मामले बढ़ते जा रहे हैं जो कि एक चिंता का विषय है। एशिया में इस बीमारी का सबसे अधिक बोझ दिखाई दे रहा है।  

द लैंसेट रीजनल हेल्थ साउथ-ईस्ट एशिया जर्नल में प्रकाशित एक नए अध्ययन के अनुसार, भारत में 2019 में लगभग 12 लाख नए कैंसर के मामले और 9.3 लाख मौतें दर्ज की गई। कैंसर 2019 में एशिया में बीमारी के बोझ के लिए दूसरा सबसे अधिक जिम्मेवार रहा।

शोधकर्ताओं ने पाया कि भारत, चीन और जापान के साथ, नए मामलों और मौतों की संख्या के मामले में एशिया में तीन अग्रणी देश थे, जहां उनका कहना है कि साल 2019 में 94 लाख नए मामलों और 56 लाख मौतों के साथ कैंसर एक भयंकर सार्वजनिक स्वास्थ्य खतरा बन गया है। इनमें से, जबकि चीन में 48 लाख नए मामलों और 27 लाख मौतों के साथ सबसे शीर्ष पर है, जापान ने लगभग नौ लाख नए मामले और 4.4 लाख मौतें दर्ज की गई।

अध्ययन में कहा गया है कि ग्लोबल बर्डन ऑफ डिजीज, इंजरीज एंड रिस्क फैक्टर्स 2019 स्टडी (जीबीडी 2019) के अनुमानों का उपयोग करके 1990 से 2019 के बीच 49 एशियाई देशों में 29 तरह के कैंसर के अस्थायी पैटर्न की जांच की गई। उन्होंने पाया कि एशिया में, प्रमुख कैंसर श्वासनली, ब्रोन्कस और फेफड़े (टीबीएल) का था, जिसके कारण अनुमानित 13 लाख मामले और 12 लाख मौतें हुईं। यह पुरुषों में सबसे अधिक और महिलाओं में तीसरा सबसे अधिक बार पाया गया।

अध्ययन के हवाले से शोधकर्ताओं ने कहा कि विशेष रूप से महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर कई एशियाई देशों में दूसरे या शीर्ष पांच कैंसरों में से एक है। 2006 में पेश किया गया ह्यूमन पेपिलोमावायरस (एचपीवी) वैक्सीन बीमारी को रोकने और एचपीवी से संबंधित मौतों को कम करने में प्रभावी साबित हुआ है।

अध्ययन में कहा गया है कि कुल मिलाकर, महाद्वीप और हर के देश में, टीबीएल, स्तन, बृहदान्त्र और मलाशय कैंसर (सीआरसी), पेट और गैर-मेलेनोमा त्वचा कैंसर 2019 में शीर्ष पांच सबसे अधिक बार होने वाले कैंसर में से थे, कुछ देशों में ल्यूकेमिया, प्रोस्टेट, यकृत और अग्नाशय का कैंसर शामिल था। उन्होंने कहा, इसके अलावा, धूम्रपान, शराब का सेवन औरपरिवेशीय कणिकीय पदार्थ (पीएम) प्रदूषण से कैंसर के 34 जोखिम कारणों में प्रमुख रहे। बढ़ते परिवेशीय वायु प्रदूषण के कारण एशिया में कैंसर का बढ़ता बोझ चिंताजनक है।

उन्होंने स्टेट ऑफ ग्लोबल एयर रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि 2019 में पीएम2.5 के जनसंख्या-भारित वार्षिक औसत के संबंध में शीर्ष 10 देशों में से पांच एशिया में मौजूद हैं, जिनमें भारत, नेपाल, कतर, बांग्लादेश और पाकिस्तान शामिल हैं। शोधकर्ताओं ने कहा कि एशिया में बढ़ते वायु प्रदूषण का पहला कारण उद्योग-आधारित आर्थिक विकास के साथ-साथ शहरीकरण, ग्रामीण से शहरी प्रवास और मोटर वाहनों का बढ़ता उपयोग है।

शोधकर्ताओं ने यह भी कहा कि भारत, बांग्लादेश और नेपाल जैसे दक्षिण एशियाई देशों मेंखैनी, गुटखा, पान मसाला जैसे धुआं रहित तंबाकू का अधिक उपयोग एक सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए चिंता का विषय है, जिसमें केवल भारत का 32.9 फीसदी हिस्सा है। 2019 में वैश्विक मौतें और होंठ और गुहा कैंसर के 28.1 फीसदी नए मामले सामने आए। अध्ययनकर्ताओं ने मुंह के कैंसर का 50 फीसदी से अधिक बोझ धुआं रहित तंबाकू को जिम्मेदार ठहराया, जिसका प्रचलन हाल के दिनों में भारत सहित दक्षिण एशिया में बढ़ा है।

शोधकर्ताओं के मुताबिक, जैसे-जैसे देशों का विकास हुआ, उन्होंने कम उम्र के समूहों में कैंसर के बोझ को कम करने और जीवन प्रत्याशा में वृद्धि के साथ कैंसर के बढ़ते बोझ को कम करने का एक सामान्य पैटर्न देखा। उन्होंने 1990 और 2019 के बीच पांच साल से कम उम्र के बच्चों में ल्यूकेमिया जैसे कैंसर का बोझ कम पाया।

इसके साथ ही, उन्होंने समान समय अवधि में प्रोस्टेट, अग्नाशय और स्तन कैंसर जैसे लंबी उम्र से जुड़े कैंसर का बढ़ता बोझ पाया। टीम ने कहा, यदि कैंसर का उपचार अनुपलब्ध या वहन योग्य नहीं है तो केवल स्क्रीनिंग की उपलब्धता से जीवित रहने की दर में सुधार नहीं हो सकता है।

शोधकर्ताओं ने कहा, एशिया के निम्न और मध्यम आय वाले देशों में, बुनियादी ढांचा या तो दुर्लभ है या पहुंच से बाहर है, खासकर ग्रामीण इलाकों में। कमजोर रेफरल प्रणाली के साथ, मरीजों को निदान और उपचार में देरी होती है, जिससे जीवित रहने की दर कम हो जाती है। उन्होंने कहा, इसलिए, कैंसर की जांच और उपचार की समय पर उपलब्धता के साथ-साथ इसकी लागत-प्रभावशीलता या उपचार के खर्चों का कवरेज भी एक नीतिगत प्राथमिकता होनी चाहिए।

       (‘डाउन-टू-अर्थ’ से साभार )

Spread the information

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *