भारत 2024 तक क्या टीबी के खिलाफ टीका तैयार कर लेगा? आईसीएमआर के तहत आने वाले नारी यानी नेशनल एड्स रिसर्च इंस्टीट्यूट पुणे के मुताबिक क्लिनिकल ट्रायल तेजी से चल रहे हैं और 2024 तक पूरे होने की संभावना है. इस वैक्सीन का ट्रायल भारत के 6 राज्यों में 18 साइट्स पर चल रहा है जिसमें 12 हजार से ज्यादा वॉलंटियर शामिल हैं. 

World TB Day: tuberculosis is curable but if treatment is delayed tb could prove fatal - वर्ल्ड टीबी डे: समय से इलाज ना हो तो जानलेवा बन जाती है टीबी - Navbharat Times

ट्रायल के बाद फॉलो अप फरवरी 2024 तक चलेगा जिसके बाद सब सही रहा तो टीबी रोकथाम की वैक्सीन आ सकती है. इस वैक्सीन के ट्रायल में शामिल NARI (नेशनल एड्स रिसर्च इंस्टीट्यूट) पुणे के डॉ सूचित कांबले ने बताया कि, लार संबंधी पोजिटिव पल्मोनरी टीबी मरीजों से स्वस्थ व्यक्तियों में ट्यूबरकुलोसिस के संचार को रोकने के लिए दो टीबी टीकों- वीपीएम 1002 और इम्यूनोवैक की प्रभावकारिता व सुरक्षा को परखने के लिए परीक्षण चल रहे हैं.

ट्यूबरकुलोसिस टीकों की जरूरत है

दरअसल, 2025 तक टीबी के सफाये के भारत के लक्ष्य को हासिल करने के लिए नये ट्यूबरकुलोसिस टीकों की जरूरत है. कांबले ने कहा, ‘‘ट्यूबरकुलोसिस को रोकने के लिए वीपीएम 1002 और इम्युनोवैक टीकों की प्रभावकारिता व सुरक्षा को परखने के लिए तीसरे चरण का यादृच्छिक परीक्षण छह राज्यों, महाराष्ट्र, दिल्ली, तेलंगाना, तमिलनाडु, कर्नाटक और ओडिशा के 18 शहरों में चल रहा है’’

Tuberculosis in Hindi - ट्यूबरकुलोसिस के कारण, लक्षण और इलाज | Credihealth

इस परीक्षण के लिए छह साल या उससे ऊपर के 12000 लोगों का पंजीकरण पूरा कर लिया गया है और अब 2024 तक उसका फोलोअप चलेगा. महाराष्ट्र में आईसीएमआर-एनएआरआई महाराष्ट्र में मुख्य स्थल है और उसने 1593 लोगों का पंजीकरण पूरा किया है. इन लोगों पर 38 महीने के लिए नियमित अंतराल पर नजर रखी जा रही है. पुणे में 2024 तक आखिरी फोलोअप पूरा हो जाने की संभावना है. 

टीबी से हर साल दुनिया भर में 17 लाख लोगों की मौत हो जाती है, अधिकतर मौतें गरीब देशों में होती है. फिलहाल टीबी से बचने के लिए बच्चों को बीसीजी का टीका लगाया जाता है, लेकिन इससे मिलने वाला प्रतिरक्षा तंत्र कुछ सालों में अपना असर खो देता है. यह टीका फेफड़ों के संक्रमण के खतरों से बचाने में बहुत कम प्रभावी है. टीबी के ज्यादातर टीके मांसपेशियों या त्वचा पर लगाए जाते हैं, कुछ साल पहले सेडेर के दिमाग में सीधे रक्तप्रवाह में टीका देने का आइडिया आया था. उन्होंने मलेरिया के मरीज की नस में सीधे मलेरिया का टीका लगाया और पाया कि टीका बेहतर ढंग से काम कर रहा है. उसके बाद उन्होंने जानना चाहा कि क्या टीबी का टीका भी इसी तरह से प्रतिक्रिया देगा.

टीबी के कारण, लक्षण, इलाज और घरेलू उपाय - Tuberculosis (TB) Symptoms and Treatment in Hindi

2025 तक टीबी के खिलाफ प्रभावी टीका होगा

कांबले ने कहा, ‘‘आंकड़े के विश्लेषण के बाद वैज्ञानिक निष्कर्ष के आधार पर हम इन टीकों की प्रभावकारिता व सुरक्षा के बारे में किसी निष्कर्ष पर पहुंचते हैं. हम उम्मीद कर रहे हैं कि 2024 तक या अधिक से अधिक 2025 तक भारत के पास टीबी के विरूद्ध अच्छा व प्रभावी टीका होगा.’’

 

Spread the information

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You missed

Download App


 

Chromecast Setup

 

 

This will close in 10 seconds