ऐसा कहा जाता है कि अगर किसी शहर के इतिहास के बारे में जानना है, तो सबसे पहले वहां स्थित म्यूजियम देखने जाना चाहिए।  म्यूजियम यानी संग्रहालय वह जगह होता है, जहाँ हमारी सभ्यता और संस्कृति को संजो कर रखा जाता है।  संग्रहालयों की विशेषता और उनके महत्व को समझते हुए संयुक्त राष्ट्र ने 1983 में ‘18 मई’ को ‘अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस’ के रूप में मनाने का निर्णय किया था।  संग्रहालय न केवल भारतीय पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र होते हैं बल्कि ये विदेशी पर्यटकों को भी काफी लुभाते हैं।  संग्रहालय के माध्यम से ही उन्हें भारतीय संस्कृति के बारे में गहराई से जानने व देखने का मौका मिलता है। 

एक पौधा पेड़ बन जाए, फिर भी वह जीवित तब तक रहता है, जब तक जड़ों से जुड़ा रहता है। वैसे ही दुनिया के विकास के लिए इतिहास को याद रखना जरूरी है। अपनी संस्कृति, परंपरा, ऐतिहासिक दिन, लोग और धरोहरों को संभालकर रखना चाहिए, ताकि विकास का सही मार्ग तलाश सकें। इसी जरूरत को समझते हुए दुनियाभर के देश अपनी संस्कृति, परंपरा और ऐतिहासिक महत्व रखने वाली अतीत की स्मृतियों के अवशेषों और कलाकृतियों को एक सुरक्षित स्थान पर संरक्षित रखते हैं। इसे संग्रहालय कहा जाता है। संग्रहालय लोगों व आने वाली पीढ़ियों और अतीत की स्मृतियों के बीच का पुल है, जो हमें इतिहास से जुड़ता है। लोगों को इतिहास तक पहुंचाने और इससे जुड़ी चीजों को सहेजने के लिए विश्व भर में कई बड़े, बहुत पुराने और लोकप्रिय संग्रहालय मौजूद हैं। इन संग्रहालयों के महत्व को समझाने के उद्देश्य से हर साल अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस भी मनाया जाता है।

कब मनाते हैं अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस?
प्रतिवर्ष 18 मई को अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस मनाया जाता है। संग्रहालय दिवस दुनिया के तमाम देशों में मनाते हैं। 2009 तक संग्रहालय दिवस को 90 से अधिक देशों में मनाया जाने लगा था। वहीं समय.अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस में हिस्सा लेने वाले देशों की संख्या 129 पहुंच गई। दुनियाभर में करीब 30000 से अधिक संग्रहालय हैं जो इस दिन को मनाते हैं।

संग्रहालय दिवस का इतिहास
इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ म्यूजियम (आईकॉम) को पहली बार संग्रहालय दिवस मनाने का विचार आया और 1977 में इस दिन को मनाने की शुरुआत की गई। उसके बाद हर साल 18 मई को अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस मनाया जाने लगा। विश्व के कई देशों के अंदर स्थापित संग्रहालय इस दिन का आयोजन करते हैं और संग्रहालय के महत्व को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए कार्यक्रम आयोजित करते हैं।

आईकॉम के बारे में जानें
इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ म्यूजियम (आईकॉम) एक ऐसा संगठन है, जिसका मुख्य कार्य ऐतिहासिक, धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व की चीजों को संजोकर रखना है। दुनियाभर में आईकॉम की 31 अंतरराष्ट्रीय समितियां हैं। इसके अलावा आईकॉम अहम वस्तुओं की अवैध तस्करी की रोकथाम का भी कार्य करता है। साथ ही आपातकालीन स्थिति में संग्रहालयों को मदद भी मुहैया कराता है।

अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस 2023 की थीम
प्रतिवर्ष अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस की एक थीम तय होती है, इसका निर्णय इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ म्यूजियम के द्वारा किया जाता है।  अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस 2023 की थीम ‘संग्रहालय स्थिरता और भलाई’ रखी गई है।

Spread the information

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *