एसीएस इंफेक्शियस डिजीज जर्नल में गुरुवार को प्रकाशित इस शोध से पता चला है कि भारत की वार्म वैक्सीन(Warm vaccine) कोरोना वायरस के सभी प्रमुख वैरिएंट के खिलाफ प्रभावी है। भारतीय विज्ञान संस्थान (IISc) की अहम कोरोना वैक्सीन।

दुनियाभर में कोरोना वायरस के अलग-अलग वैरिएंट ने सरकारों की चिंता बढ़ा दी है। दुनिया में एक बार फिर कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे है। अल्फा, बीटा, डेल्टा , लैम्ब्डा समेत कोरोना के अन्य वैरिएंट वैज्ञानिकों के लिए चिंता का विषय बने हुए है। इस बीच, भारत में एक ऐसी Warm Vaccine विकसित की गई है जो कोरोना वायरस के सभी प्रमुख वैरिएंट के खिलाफ प्रभावी बताई गई है।बायोटेक फर्म Mynvax के साथ संयुक्त रूप से काम कर रहे भारतीय विज्ञान संस्थान (IISc) के वैज्ञानिकों ने ‘वार्म’ वैक्सीन फॉर्मूलेशन का निर्माण किया है। बताया जा रहा है कि यह वार्म वैक्सीन कोरोना के सभी प्रमुख वैरिएंट पर प्रभावी है।

जानवरों में हुए एक अध्ययन के अनुसार- भारतीय विज्ञान संस्थान (IISc) बेंगलुरु द्वारा विकसित एक गर्म-सहनशील कोरोना वैक्सीन फॉर्मूलेशन, कोरोना के सभी चिंताजनक वैरिएंट(जैसे- अल्फा, बीटा, कप्पा, डेल्टा) के खिलाफ प्रभावी है। एसीएस इंफेक्शियस डिजीज जर्नल में गुरुवार को प्रकाशित इस शोध से पता चला है कि आईआईएससी-इनक्यूबेटेड बायोटेक स्टार्ट-अप मायनवैक्स(Mynvax) द्वारा वैक्सीन फॉर्मूला ने चूहों में एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया विकसित की है।

आपको बता दें कि फॉर्मूलेशन CSIRO ऑस्ट्रेलिया द्वारा आयेजित था. जिनके अनुसार यह वार्म वैक्सीन शरीर में जाने के बाद एंटबॉडी का निर्माण करती है। यह एंटीबॉडी शरीर में अटैक करने वाले हर कोरोना के वैरिएंट के असर को कम कर सकता है अर्थात उसके प्रभाव को कम कर सकता है।कहा जा रहा है कि यह खोज कोरोना वैक्सीन के लिहाज से मील का पत्थर साबित हो सकता है। आपको बता दें कि इस खोज को प्रोफेसर राघवन वरदराजन के नेतृत्व में किया गया था।

क्या होती है वार्म वैक्सीन, जानिए फायद

दरअसल, यह फॉर्मूलेशन 37 डिग्री सेंटीग्रेड पर एक महीने तक स्थायी रह सकता है और 100 डिग्री सेंटीग्रेड पर 90 मिनट तक। यही कारण है कि इस फॉर्मूलेशन को वार्म वैक्सीन का नाम दिया गया है। आपको बता दें कि अब तक किसी वैक्सीन को देश के किसी भी हिस्से में वैक्सीन को पहुंचाने के लिए कोल्ड चेन का निर्माण करना पड़ता है। उसी के माध्यम से एक से दूसरे राज्य या शहरों तक इसे पहुंचाया जा रहा थाष यही कारण है कि लोगों तक अभी भी वैक्सीन पहुंच से बाहर हैष ऐसे में वार्म वैक्सीन का फॉर्मूलेशन बनाने से इसमें काफी तेजी आयेगी।

Spread the information

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You missed

Download App


 

Chromecast Setup

 

 

This will close in 10 seconds