एक ओर जहां देश में कोरोना के मामले लगातार तेज़ी से बढ़ रहे हैं. वहीं दूसरी ओर इसके इलाज के काम आने वाली दवाओं की चर्चा तेज हो गई है. कोरोना की एंटी वायरल दवा मोलनुपिराविर (Molnupiravir) को इसके इलाज के तौर पर काफी फायदेमंद  माना जा रहा है, लेकिन इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च (Indian council for medical research) यानी ICMR ने साफ किया है कि ये दवा फिलहाल कोरोना वायरस के इलाज के लिए बने क्लीनिकल प्रोटोकॉल में शामिल नहीं की जाएगी . 

युवाओं के लिए खतरनाक साबित हो सकती है ये दवा

ICMR की ऐसा कहने की वजह साफ है. ये दवा युवाओं, अविवाहित महिलाओं और गर्भवती महिलाओं में बच्चे पैदा करने की क्षमता पर बुरा असर डाल सकती है. स्वास्थ्य मंत्रालय के वैक्सीन के लिए बने टेक्निकल एडवाइजरी ‌ग्रुप के चीफ डॉ एन के अरोड़ा ने भी हर मामले में इस दवा को इस्तेमाल न करने की सलाह दी है .

सिर्फ 60 साल से उपर वाले लोगों को ही दें मोलनुपिराविर

एक्सपर्ट के मुताबिक मोलनुपिराविर को केवल 60 साल से ज्यादा उम्र ‌के‌ बीमार कोरोनावायरस मरीजों ‌को‌ ही देना चाहिए. जब तक इस दवा की‌ डिटेल स्टडी सामने न आ जाए तब तक इसे हर किसी को इलाज के तौर पर न दें. खास तौर पर हल्के लक्षणों वाले मरीज और होम आइसोलेशन वाले मरीज इस दवा को न लें .

सिर्फ ओरल ड्रग है मोलनुपिराविर, वैक्सीन नहीं

मोलनुपिराविर को सर्दी-जुकाम के मरीजों के लिए बनाया गया था . यह वैक्सीन नहीं, बल्कि ओरल ड्रग है. इसे फार्मा कंपनी मर्क और रिजबैक ने बनाया है. अब इसका इस्तेमाल कोरोना मरीजों पर भी खूब किया जा रहा है.

हल्के लक्षणों वाले मरीज को न दें दवा

एक्सपर्ट के मुताबिक मोलनुपिराविर को केवल 60 साल से ज्यादा उम्र ‌के‌ बीमार कोरोनावायरस मरीजों ‌को‌ ही देना चाहिए. जब तक इस दवा की‌ डिटेल स्टडी सामने न आ जाए तब तक इसे हर किसी को इलाज के तौर पर न दें. खास तौर पर हल्के लक्षणों वाले मरीज और होम आइसोलेशन वाले मरीज इस दवा को न लें .

सिर्फ इमरजेंसी इस्तेमाल की दी गई है मंजूरी

बता दें कि इस दवा को भारत के ड्रग कंट्रोलर ने 28 दिसंबर को कोरोना के गंभीर मामलों के इलाज के लिए मंजूरी दी है. दवा का फायदा 60 साल से ऊपर के बुजुर्ग ‌या ऐसे लोग जिन्हें कोई दूसरी गंभीर बीमारी भी हो में देखा गया है. लेकिन कई डॉक्टर इसे युवाओं को भी ‌दे रहे हैं. सरकार के एक्सपर्ट ऐसे मामलों से बचने की सलाह दे रहे हैं . 

मौत के खतरे को कम करती है मोलनुपिराविर

कई डॉक्टर इसे युवाओं को भी ‌दे रहे है. सरकार के एक्सपर्ट ऐसे मामलों से बचने की सलाह दे रहे हैं. दवा बनाने वाली कंपनी का दावा है कि ये कोरोनावायरस संक्रमण के 5 दिनों में दी जाए तो‌ अस्पताल में भर्ती होने और मौत के खतरे दोनों से बचा सकती‌ है. भारत की 13 कंपनियों ने इस दवा को बनाने की तैयारी कर ली है. फिलहाल ये दवा डॉक्टर्स ‌की‌ प्रिस्क्रिप्शन पर ही मिल सकती है .

Spread the information

Leave a Reply

Your email address will not be published.