फ्रांस की लेखिका Annie Ernaux को साहित्य का नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize) मिला है। पुरस्कार देने वाली निकाय ने गुरुवार को बताया कि फ्रांसीसी लेखिका को यह पुरस्कार उनकी उल्लेखनीय लेखनी के लिए दिया गया है जिसमें उनकी हिम्मत और प्रखरता की झलक है।

82 वर्षीय फ्रांस की लेखिका ने पूरे साहस और प्रखरता के साथ अपने व्यक्तिगत अनुभवों को लिखा है। स्वीडिश अकेडमी की स्थायी सचिव मैट्स माम (Mats Malm) ने गुरुवार को साहित्य जगत के विजेता के नाम की घोषणा की। सोमवार को चिकित्सा जगत में निअंडरथल जीनोम पर रिसर्च करने वाले वैज्ञानिक वांते पाबो को यह पुरस्कार मिला था।इसके बाद मंगलवार को फिजिक्स में तीन वैज्ञानिकों को संयुक्त तौर पर पुरस्कृत किया गया। इन्होंने दिखाया था कि छोटे-छोटे अणुओं को अलग करने के बावजूद इनके बीच कनेक्शन होता है।

1901 में पहली बार नोबेल पुरस्कार की  हुई थी शुरुआत 

यह सम्मान वैश्विक शांति, चिकित्सा, साहित्य, इकोनामिक्स, फिजिक्स और केमिस्ट्री के क्षेत्रों में दिया जाता है। 1901 में पहली बार नोबल पुरस्कार की शुरुआत हुई थी। डायनामाइट के आविष्कारक स्वीडन के उद्योगपति अलफ्रेड नोबेल की वसीयत में इस पुरस्कार के बारे में जिक्र था। वे डायनामाइट का जंग में इस्तेमाल किए जाने को लेकर निराश थे और इसलिए उन्होंने अपनी वसीयत में नोबल शांति पुरस्कार का उल्लेख किया था।

कौन हैं एनी एनॉक्स ?

फ्रेंच उपन्यासकार एनी एनॉक्स अपने मजदूर वर्ग के माता-पिता के साथ पली-बढ़ीं। उन्होंने रूएन विश्वविद्यालय में पढ़ाई की है। वह 1977 से 2000 तक सेंटर नेशनल डी’एन्साइनमेंट पार कॉरेस्पोंडेंस में प्रोफेसर थीं।

उनकी ज्यादातर रचनाएं आत्मकथात्मक (Autobiographical) शैली में हैं, जैसे- ए वूमन स्टोरी, ए मैन्स प्लेस और सिंपल पैशन। एनॉक्स के साहित्यिक जीवन की शुरुआत 1974 में हुई थी। इस साल उनकी रचना ‘लेस अरमोयर्स वीड्स’ प्रकाशित हुई थी। साल 1990 में यह पुस्तक अंग्रेजी में Cleaned Out के नाम से प्रकाशित हुई। एनॉक्स को साहित्यिक सफलता उनकी चौथी रचना La place or A Man’s Place से मिली।

एनॉक्स की रचनाएं आम जिंदगी से इस कदर सराबोर होती हैं कि अंग्रेजी के आलोचक उसे संस्मरण की श्रेणी में रखना चाहते हैं। हालांकि उनका खुद का ऐसा मानना है कि वह फिक्शन लिखती हैं। उनकी कई रचनाओं का अंग्रेजी में भी अनुवाद हुआ है। साल 2019 में उनकी पुस्तक ‘द इयर्स’ अंतरराष्ट्रीय बुक पुरस्कार के लिए नामांकित हुई थी। एनॉक्स की रचनाओं को सेवन स्टोरीज़ प्रेस प्रकाशित करता है। वह सेवन स्टोरीज़ प्रेस की सात संस्थापक साहित्यकारों में से एक हैं।

एनी एनॉक्स साल 2014 में पैत्रिक मोदियानो के बाद नोबेल जीतने वाली पहली फ्रांसीसी लेखिका हैं। नोबेल कमेटी ने एनॉक्स को विजेता चुनने की वजह बताते हुए कहा है, ”एनी को उनके साहस और नैतिक सटीकता के साथ अपनी यादों की जड़ों को खोदकर, सामाजिक प्रतिबंधों को उजागर करने के लिए चुना गया है।” पुरस्कार की घोषणा करने के दौरान नोबेल कमेटी ने कहा कि वे अभी तक एनी एनॉक्स से फोन पर संपर्क नहीं कर पाए हैं, उम्मीद है जल्द ही उनसे बात होगी।

साहित्य के लिए मिले नोबेल का इतिहास

1901 से अब तक साहित्य के लिए 115 नोबेल पुरस्कार दिया चुका है। चार ऐसे भी मौके आए हैं जब दो लोगों को प्राइज साझा करना पड़ा। साहित्य के लिए नोबेल पाने वाले सबसे कम उम्र के लेखक रुडयार्ड किपलिंग हैं। उन्हें साल 1907 में 41 वर्ष की आयु में द जंगल बुक के लिए नोबेल मिला था। साल 1958 और 1964 में नोबेल के लिए चुने गए साहित्यकारों ने पुरस्कार लेने से मना कर दिया था।

Spread the information

Leave a Reply

Your email address will not be published.