कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ जंग में इजरायल (Israel) शुरुआत से आगे रहा है. इजरायल ने कोरोना से निपटने के लिए हर संभव कदम उठाया, जिसके दुनियाभर में इजरायल की तारीफ हुई. जहां एक तरफ कई देश अपने नागरिकों को कोरोना की वैक्सीन (Vaccine) की दोनों डोज देने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, वहीं इजरायल के एक हेल्थ एक्सपर्ट सलमान जारका ने कहा कि कोविड वैक्सीन की चौथी डोज की भी जरूरत है.

इजरायल में लोगों को लगाए जा रहे बूस्टर शॉट

WION में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, इजरायल ने अपने सभी नागरिकों को कोरोना वायरस का बूस्टर शॉट देना शुरू कर दिया है. हालांकि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने देशों से बूस्टर प्रोग्राम नहीं शुरू करने का आग्रह किया है. WHO का कहना है कि तब तक ऐसा नहीं किया जाए जब तक कि अन्य सभी देश कम से कम कमजोर वर्ग के लोगों का टीकाकरण करने में सक्षम नहीं हो जाएं.

हेल्थ एक्सपर्ट ने दी ये सलाह

सलमान जारका ने कहा कि कोरोना के कई वैरिएंट सामने आ रहे हैं. डेल्टा वैरिएंट के केस काफी तेजी से बढ़ रहे हैं. आशंका है कि इससे मौतों और हॉस्पिटल में एडमिट होने वालों का आंकड़ा बढ़ सकता है. उनका कहना है कि कोविड वैक्सीन की चौथी डोज की जरूरत कुछ समय बाद पड़ सकती है. हमें इसके लिए तैयार रहना चाहिए. हेल्थ एक्सपर्ट सलमान जारका के मुताबिक, बूस्टर शॉट कोरोना के वैरिएंट से बचाने में सक्षम हैं. डेल्टा वैरिएंट के बढ़ते मामलों के बीच बूस्टर शॉट की जरूरत बढ़ गई है.

चौथी लहर से लेना होगा सबक

सलमान जारका ने कोरोना की अगली लहर के बारे में भी चेतावनी दी. उन्होंने कहा कि हमें कोरोना की चौथी लहर से सबक लेना चाहिए. कोरोना के और नए वैरिएंट आ सकते हैं, जैसा कि साउथ अमेरिका महाद्वीप में हो रहा है. स्वास्थ्य अधिकारियों का भी कहना है कि भविष्य में कम से कम 6 महीने या एक साल में बूस्टर शॉट्स की जरूरत होगी.

 

Spread the information

Leave a Reply

Your email address will not be published.