पर्यावरणीय असंतुलन और वन्य प्राणियों पर छाये संकट के बीच झारखंड के पूर्वी सिंहभूम में स्थित दलमा वाइल्ड लाइफ सेंचुरी से अच्छी खबर सामने आयी है. हाथियों के लिए संरक्षित दलमा की सेंसस रिपोर्ट-2022 जारी कर दी गयी है. इस बार की गणना में हाथी, बंदर, जंगली मुर्गी, सूअर, मोर, लाल गिलहरी, मयूर (मोर) और लोमड़ी की संख्या में दोगुना से तीन गुना तक वृद्धि दर्ज की गयी है .

जानिए, क्या जानवर भी इंसानों की तरह एक-दूसरे को गले लगाते हैं? - Science AajTak

10+ पालतू जानवर के नाम - Domestic animals name in Hindi - Hindibichar

हाथियों की संख्या 67 से बढ़ कर 104 हुई

रिपोर्ट के मुताबिक हाथियों की संख्या 67 से बढ़ कर 104 हो गयी है. साल 2019 में हाथियों की संख्या 67 थी. वहीं, वर्ष 2018 में यह संख्या महज 48 थी. सेंसस रिपोर्ट-2022 के मुताबिक, दलमा में 27 की संख्या में अजगर भी पाये गये हैं. वर्ष 2014 के बाद से लकड़बग्घा के विलुप्त होने की रिपोर्ट दर्ज की गयी थी. वर्ष 2018 तक यहां लकड़बग्घा नहीं पाये गये थे. लेकिन, वर्ष 2019 में दो लकड़बग्घा दिखे. अच्छी बात यह है कि वर्ष 2022 की सेंसस रिपोर्ट में यहां लकड़बग्घा की संख्या तीन हो गयी है.

दलमा के हिरण और हाथियों के भोजन पर लग सकता है ग्रहण, पांच महीने से सरकार ने जारी नहीं किया है फंड Jamshedpur News - Government has not released any fund from

भालुओं की संख्या हुई 21

वर्ष 2019 के मुकाबले भालुओं की संख्या 19 से बढ़ कर 21 हो गयी है. वहीं, एक भेड़िया और एक सिवेट कैट (बिल्ली) भी देखे गये हैं. दरअसल, वर्ष 2020 में सेंसस नहीं कराया जा सका था, जबकि वर्ष 2021 की रिपोर्ट अब तक जारी नहीं की गयी है. गज परियोजना जमशेदपुर और दलमा वन आश्रयणी के डीएफओ ने बताया कि जानवरों की सुरक्षा, निवास स्थान को उपयोगी बनाने में काफी मेहनत की गयी है. दलमा के जानवर सुरक्षित हो रहे हैं. यह सेंसस रिपोर्ट से साबित हो रहा है.

शादी में भालुओं का प्रवेश , मची अफरा-तफरी, खाना चट कर भागे - Chhattisgarh News Dhamaka

जानवरों की संख्या में वृद्धि का यह कारण

दलमा रेंज के डीएफओ अभिषेक कुमार ने हाथियों के संबंध में बताया कि हाथी माइग्रेट करते हैं. पश्चिम बंगाल से दलमा और वापस लौटने से संख्या में उतार- चढ़ाव भी दर्ज किया जाता है. दलमा अभ्यारण्य में आने-जाने के अलग- अलग रास्तों में चेक नाका भी बनाये गये हैं, ताकि शिकारियों पर नजर रखी जा सके. लाल गिलहरी, बंदर और पक्षियों के अनुकूल फलदार वृक्ष लगाये गये हैं तो वहीं कटाशनी पहाड़ में भालू की गुफा भी है.

World Nature Conservation Day | शोर से परेशान मोर - कैसे बदल रहे अपनी जगह | Patrika News

दलमा 2022 सेंसस  रिपोर्ट केआंकड़े

हाथी – 105

भालू – 21

जंगली सूअर – 305

बार्किंग डियर (कोटरा) – 86

लंगूर – 29

बंदर – 835

जंगली कुत्ता – 05

रेटल – 09

लाल गिलहरी – 87

जंगली मुर्गी – 307

लकड़बग्घा – 03

Villagers Killed Hyena Injured Two Including Sp Leader In jaunpur - जौनपुर में लकड़बग्घे ने सपा नेता समेत दो को कर दिया जख्मी तो ग्रामीणों ने मार डाला - Amar Ujala Hindi

नेवला – 66

मयूर (मोर) – 216

खरहा (खरगोश) – 93

साहिल – 28

लोमड़ी – 20

जंगली बिल्ली – 06

तोता व बुलबुल – 371

पाइथन – 27

सिवेट कैट – 01

भेड़िया – 01

Spread the information

Leave a Reply

Your email address will not be published.