देश में सोमवार से  15 से 18 वर्ष आयु वर्ग के लिए टीकाकरण अभियान के पहले दिन 50 लाख से अधिक किशोरों ने कोरोनारोधी टीके की पहली खुराक ली। देशभर में इस आयु वर्ग में अनुमानत: 7.4 करोड़ बच्चे हैं। कई लाभार्थियों और उनके माता-पिता ने कहा कि महामारी के मामलों में वृद्धि की पृष्ठभूमि वे इसका बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। कोविन पोर्टल पर सोमवार रात 10:30 बजे तक के आंकड़े के अनुसार, 15 से 18 वर्ष तक की आयु के 53,64,599 लाभार्थियों ने टीका लगवाया है।

कोविन पोर्टल पर बच्चों के टीकाकरण के लिए शनिवार यानी एक जनवरी से ही रजिस्ट्रेशन शुरू हो गया था। खबर लिखे जाने तक 50 लाख से ज्यादा किशोर रजिस्ट्रेशन करा चुके थे। सीधे टीका केंद्रों पर जाकर भी रजिस्ट्रेशन कराने और वैक्सीन लगवाने की सुविधा दी गई है। टीका लगवाने को लेकर किशोरों में उत्साह तो देखा ही गया, उन्हें प्रेरित करने के लिए भी टीका केंद्रों पर कई उपाय किए गए। स्कूल और शिक्षण संस्थानों में किशारों के लिए बनाए गए अधिकतर टीका केंद्रों पर सेल्फी प्वाइंट बनाए गए हैं, उन्हें गुब्बारों से सजाया गया है। कुछ केंद्रों पर टीका लगवाने के बाद किशोरों का फूल और उपहार देकर स्वागत किया गया। पहले दिन टीका लगवाने के लिए बड़ी संख्या में किशोर स्कूल यूनिफार्म  में  भी टीका केंद्रों पर नजर आए। कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण को लेकर किशोरों में भारी उत्साह देखने को मिल रहा है।

बच्चों को सिर्फ भारत बायोटेक की कोवैक्सीन ही दी गई 

किशोरों को सिर्फ भारत बायोटेक की कोवैक्सीन लगाई जा रही है। कोविन पोर्टल पर अब तक 50 लाख से ज्यादा किशोरों ने टीका लगवाने के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है। देश में 15 से 18 वर्ष तक के किशोरों की कुल आबादी लगभग 7.4 करोड़ है। टीका लगवाने वाले बच्चों के साथ उनके माता-पिता ने भी टीकाकरण शुरू होने से राहत की सांस ली है, खासकर ओमिक्रोन और कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए। अभिभावकों ने कहा कि वे इसका बेसब्री से इंतजार कर रहे थे।

झारखंड में 45,653 किशोरों ने टीका लगवाया

पहले दिन पूरे झारखंड में 45,653 किशोरों ने टीका लगवाया। गुमला में सबसे अधिक 6,389 लोगों को टीका लगा, जबकि रांची में 5,131, लातेहार में 4,400, गढ़वा में 4,130 और पूर्वी सिंहभूम में 3,798 किशोरों को टीका लगा। राज्य में इस आयु वर्ग के 23.98 लाख किशोरों का टीकाकरण होना है।

बिहार में डेढ़ लाख किशोरों ने टीके की खुराक ली  

बिहार में करीब डेढ़ लाख किशोरों ने टीके की खुराक ली। विद्यालयों में बनाए गए कोरोना टीकाकरण केंद्रों में स्कूल के किशोरों के अतिरिक्त आसपास के बच्चों को भी कोरोना टीका दिया गया।

दिल्ली ने 20,998 बच्चों को दी वैक्सीन 

दिल्ली सरकार ने बताया कि दिल्ली में सोमवार शाम 6 बजे तक 15-17 आयु वर्ग के 20,998 बच्चों को वैक्सीन की पहली डोज लगाई गई। इसके अलावा असम सरकार ने बताया कि असम में सोमवार को 978 वैक्सीनेशन केंद्रों पर वैक्सीनेशन कार्यक्रम आयोजित किया गया और 15-17 आयु वर्ग के 72,954 बच्चों को शाम 6:00 बजे तक राज्य में वैक्सिन का पहला डोज दिया गया।

पंजाब-चंडीगढ़ में 3071 और 1826 बच्चों को लगी वैक्सीन

पंजाब में 15 साल से 18 साल के बीच के 3,071 बच्चों को वैक्सीन की पहली खुराक दी गई। चंडीगढ़ में शहर भर के 10 केंद्रों पर कुल 1826 कोवैक्सिन की खुराक दी गई। प्रशासक ने शहर में टीकाकरण अभियान चलाने के लिए स्वास्थ्य विभाग के प्रयासों की सराहना की।

केरल में 38,417 किशोरों का टीकाकरण 

केरल में, टीकाकरण अभियान के पहले दिन लगभग 38,417 बच्चों को टीका लगाया गया। तिरुवनंतपुरम सोमवार को जिले में 9338 बच्चों के टीकाकरण के साथ सूची में सबसे ऊपर है। कोल्लम के बाद 6868 बच्चों का टीकाकरण किया गया, इसके बाद त्रिशूर (5018) का स्थान रहा। बच्चों के लिए कुल 551 टीकाकरण केंद्र बनाए गए थे।

हरियाणा में 15 लाख 40 हजार बच्चों को लगेगी वैक्सीन

अंबाला में 15-18 आयु वर्ग के लिए वैक्सीनेशन अभियान के शुभारंभ में हरियाणा स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा, “आज से 15 से 18 साल के बच्चों के वैक्सीनेशन अभियान का शुभारंभ हुआ है। हरियाणा में इस श्रेणी के 15 लाख 40 हजार बच्चें हैं। हम इस अभियान को 10 दिन में पूरा कर लेंगे।”

“वेल डन यंग इंडिया!”

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख ने ट्विटर पर लिखा, “वेल डन यंग इंडिया! बच्चों के टीकाकरण अभियान के पहले दिन रात 8 बजे तक 15-18 आयु वर्ग के 40 लाख से अधिक लोगों ने COVID19 वैक्सीन की अपनी पहली खुराक प्राप्त की। यह भारत के टीकाकरण अभियान के लिए एक और उपलब्धि है।” इससे पहले रविवार को, स्वास्थ्य मंत्री ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों (यूटी) को सलाह दी कि वे किसी भी गड़बड़ी से बचने के लिए अलग-अलग टीकाकरण केंद्र, सत्र स्थल, अलग टीकाकरण टीम और कतारें सुनिश्चित करें।

Spread the information

Leave a Reply

Your email address will not be published.