रिपोर्ट में कहा गया है, “बी.1.617.2 में टीके लगाए गए और बिना टीकाकरण वाले दोनों व्यक्तियों को संक्रमित करने की क्षमता है. हालांकि, टीकाकरण से बीमारी की प्रगति को रोका जा सकता है. इसलिए, गैर-फार्मास्युटिकल हस्तक्षेपों को संक्रमण को कम करने में जारी रखना चाहिए .

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) द्वारा चेन्नई में किए गए एक अध्ययन में पाया गया है कि कोविड-19 (Coronavirus) के डेल्टा वैरिएंट (Delta Variant) में टीकाकरण और बिना टीकाकरण वाले दोनों तरह के व्यक्तियों को संक्रमित करने की क्षमता है, लेकिन यह पूर्व समूह के बीच मृत्यु दर को कम करता है. 

17 अगस्त को जर्नल ऑफ इंफेक्शन में प्रकाशित और आईसीएमआर-नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी, चेन्नई की संस्थागत इथिक्स कमेटी द्वारा अनुमोदित एक अध्ययन के अनुसार यह दर्शाता है कि डेल्टा वैरिएंट या बी.1.617.2 की व्यापकता टीकाकृत और गैर-टीकाकरण समूहों के बीच भिन्न नहीं थी.

वैक्सीनेटेड लोगों में गंभीर रूप से बीमार होने वालों की संख्या कम
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी के वैज्ञानिक जेरोमी थंगराज इस स्टडी में शामिल थे। उन्होंने कहा कि सैंपल कम लिए गए थे। साथ ही इसमें री-इन्फेक्शन के मामले शामिल नहीं थे। हालांकि, ऐसे केस कम संख्या में मिले थे। यह भी साफ नहीं था कि टीकाकरण के बाद जो लोग संक्रमित हुए उन्होंने कोवीशील्ड या कोवैक्सीन लगाई थी, लेकिन वैक्सीनेटेड लोगों में गंभीर रूप से बीमार होने वालों और मृतकों की संख्या कम थी।

पूरी तरह से टीकाकरण करा चुके लोगों में मौत का एक भी मामला नहीं
रिपोर्ट में बताया गया कि पूरी तरह से टीकाकरण करा चुके लोगों में मौत का एक भी मामला नहीं मिला। वहीं, एक डोज लगवाने वाले तीन मरीजों और टीका न लगाने वाले 9 लोगों की मौत हुई। स्टडी पूरी होने के बाद मई में इसके डेटा तमिलनाडु हेल्थ डिपार्टमेंट के साथ शेयर किए गए। इसमें सुझाव दिया गया कि संक्रमण को रोकने के लिए तेजी से वैक्सीनेशन जारी रखना होगा

रिपोर्ट में कहा गया है, “भारत ने अप्रैल और मई 2021 के महीनों के दौरान SARS-CoV-2 संक्रमण की एक गंभीर दूसरी लहर का सामना किया.  BBV152 वैक्सीन (Covaxin; Bharat Biotech) और ChAdOx1 nCoV-19 (Covishield, Serum Institute of India) के साथ COVID-19 का टीकाकरण जनवरी 2021 में देश में शुरू किया गया था, जिसमें पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों को लक्षित किया गया था और बाद में वयस्क जनसंख्या समूहों को शामिल करने के लिए इसका विस्तार किया गया था. भारत में टीकाकरण अभियान के बाद संक्रमण के मामलों में कमी की सूचना मिली है.”

Spread the information

Leave a Reply

Your email address will not be published.