मैट्रिक और इंटरमीडिएट के रिजल्ट को लेकर झारखंड एकेडमिक काउंसिल ने फार्मूला पर अपनी मुहर लगा दी है। नौवीं और 11वीं की ओएमआर शीट पर हुई परीक्षा पर 80 प्रतिशत अंक दिए जाएंगे। वहीं, 20 प्रतिशत अंक प्रैक्टिकल से मिलेंगे। जिन विषयों का प्रैक्टिकल नहीं है, उसमें आंतरिक मूल्यांकन ( इंटरनल असेसमेंट) होगा और  इतने अंक दिए जाएंगे। झारखंड एकेडमिक काउंसिल की पांच सदस्यीय कमेटी ने गुरुवार को इसे एप्रूव कर दिया।

मैट्रिक और इंटर मीडिएट के रिजल्ट के लिए जैक थ्योरी पेपर के 80 प्रतिशत अंक नौवीं और 11वीं के रिजल्ट के आधार निकालेगा, वहीं प्रैक्टिकल और आंतरिक मूल्यांकन के लिए 20 प्रतिशत अंक निर्धारण करने की जिम्मेदारी स्कूलों की होगी। स्कूल प्रैक्टिकल और इंटरनल असेसमेंट के अंक झारखंड एकेडमिक काउंसिल को उपलब्ध कराएंगे। जैक की ओर से इसके लिए पोर्टल भी तैयार किया जा रहा है। इसमें स्कूल प्रैक्टिकल और आंतरिक मूल्यांकन के नंबर अपलोड कर सकेंगे। जैक की ओर से अगले दो-तीन दिनों में इसका विस्तृत गाइडलाइन जारी किया जाएगा। 

आंतरिक मूल्यांकन तय करेंगे स्कूल
– मैट्रिक के छात्र छात्राओं का आंतरिक मूल्यांकन का आधार क्या-क्या होगा इसे स्कूल तय करेंगे। उसी आधार पर वे 20 प्रतिशत अंक दे सकेंगे। इसके लिए स्कूलों को छूट दी जाएगी। मैट्रिक के रिजल्ट के लिए आंतरिक मूल्यांकन में  छात्र-छात्राओं की नौवीं क्लास में उपस्थिति  नौवीं में हुए तिमाही-छमाही या अन्य एसेसमेंट, दसवीं के लिए तीन माह के लिए खुले स्कूल में उपस्थिति, जैक के मॉडल प्रश्न पत्र पर  परफारमेंस को आधार माना जाएगा। 

इस कमेटी ने दी मंजूरी 
– मैट्रिक और इंटरमीडिएट  के रिजल्ट तैयार करने के लिए  पांच सदस्यीय टीम ने मार्किंग सिस्टम पर अपनी सहमति दी है। इस टीम में दक्षिणी छोटानागपुर के क्षेत्रीय शिक्षा उपनिदेशक अरविंद विजय विलुंग, सेवानिवृत्त आरडीडीई राजकुमार सिंह, जैक के संयुक्त सचिव कल्पना वर्मा व मोहन झा  और प्राचार्य अवनींद्र सिंह शामिल थे।

सीबीएसई की तर्ज पर नहीं होगा मूल्यांकन
– सीबीएसई ने 12वीं के रिजल्ट के लिए मूल्यांकन का तरीका तय किया है। जैक  उसका अनुसरण नहीं करेगा। जैक सिर्फ 11वीं के रिजल्ट, 12वीं के प्रैक्टिकल और आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर ही परिणाम जारी करेगा।

 

Spread the information

Leave a Reply

Your email address will not be published.