मछली पानी में रहती है और मनुष्य भाषा में। मछली के जीवन की बुनियादी शर्त है – पानी। उसके पास पानी से अलग रहने का कोई विकल्प नहीं है। मनुष्य के पास भी भाषा के सिवाय और कोई घर नहीं। जब से मनुष्य है तभी से भाषा भी है। आदमी रहता आया है दुनिया में मगर दुनिया को पाया उसने भाषा में। आदमी आधा अपनी स्मृतियों में होता है और आधा अपनी आकांक्षा में। स्मृतियां उसका भूत हैं और आकांक्षा उसका भविष्य। अपने होने के अर्थ को पाने के लिए आदमी चाहे जिस तरफ गति करे उसको पहला और अंतिम सहारा भाषा में मिलता है। यह सफर चाहे ‘मैं’ से ‘हम’ होने का हो या ‘हम कौन थे और क्या होंगे अभी’ का। इस सफर का एक-एक कदम भाषा के भीतर से होकर गुजरता है।

भाषाएं ने केवल हमारे बातचीत करने और विचारों को प्रकट करने का माध्यम है, यह हमारी संस्कृति का भी अंश है, जो अपने साथ हमारे पूर्वजों के ज्ञान को भी बांधे रखती है। ऐसे में यदि एक भी भाषा दुनिया से विलुप्त होती है, तो उसका नुकसान सारी मानव जाति को होगा। पर दुर्भाग्य की बात देखिए हमारे पूर्वजों की यह देन धीरे-धीरे संसार से विलुप्त होती जा रही हैं। इसी बात में हाल ही में द ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी (एएनयू) द्वारा किए एक अध्ययन से पता चला है कि सदी के अंत तक दुनिया की करीब 1,500 भाषाएं विलुप्त हो जाएंगी, जिसका मतलब है कि इनको बालने और जानने वाला कोई शेष नहीं होगा। यह शोध जर्नल नेचर इकोलॉजी एंड इवोल्यूशन में प्रकाशित हुआ है।

साथ ही अपने इस शोध में शोधकर्ताओं ने उन कारणों को भी जानने का प्रयास किया है, जिनके कारण यह भाषाएं विलुप्त होने की कगार पर पहुंच गई हैं। इस शोध से जुड़े सह-शोधकर्ता प्रोफेसर लिंडेल ब्रोमहैम ने जानकारी दी है कि दुनिया में 7,000 से ज्यादा ज्ञात भाषाएं हैं, जिनमें से करीब आधी खतरे में हैं। इतना ही नहीं उनके अनुसार यदि इन भाषाओं को बचाने के लिए तत्काल प्रयास न किए गए तो अगले 40 वर्षों में भाषाओं को होने वाला नुकसान बढ़कर तीन गुना हो सकता है। शोध में यह भी सामने आया है कि सदी के अंत तक दुनिया की करीब 1,500 भाषाएं बोलचाल में नहीं रहेंगी।

किस वजह से खतरे में हैं यह पारम्परिक भाषाएं

भाषाओं पर मंडराते खतरे को स्पष्ट करते हुए प्रोफेसर ब्रोमहैम ने जानकारी दी है कि भाषाओं को प्रभावित करने वाले जिन 51 कारकों या संभावनाओं की उन्होंने जांच की है उनमें से कुछ तो इतने अप्रत्याशित और आश्चर्यजनक हैं जिनके बारे में कल्पना करना भी मुश्किल है। इनमें से एक कारक तो सड़कों का घनत्व भी है। उनके अनुसार किसी भाषा के अन्य स्थानीय भाषाओं के संपर्क में आना कोई बड़ी समस्या नहीं है, वास्तविकता में देखा जाए तो कई अन्य देशी भाषाओं के संपर्क में आने वाली भाषाएं कम खतरे में हैं। वहीं शोध में सामने आया है कि जिस क्षेत्र में देश को शहरों और गांवों को कस्बों से जोड़ने वाली जितनी ज्यादा सड़के हैं, वहां भाषाओं के विलुप्त होने का खतरा उतना ज्यादा है। शोधकर्ताओं के अनुसार ऐसा लगता है कि जैसे सड़कें प्रभावी भाषाओं को अन्य छोटी भाषाओं पर थोपने में मदद कर रही हैं। 

एक अन्य अनुमान के अनुसार, विश्व की करीब 95 फीसदी आबादी केवल 6 फीसदी भाषाओं को बोलती है। भाषाओं पर मंडराता खतरा कितना जटिल है इस बारे में जानकारी देते हुए शोधकर्ताओं ने ऑस्ट्रेलिया का उदाहरण देते हुए बताया है कि उपनिवेशीकरण से पहले ऑस्ट्रेलिया में 250 से अधिक भाषाओं को राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता दी गई थी और एक साथ कई भाषाओं को अपनाने का चलन था। लेकिन अब वहां केवल 40 भाषाएं ही बोली जाती है, जबकि केवल 12 की शिक्षा बच्चों को दी जा रही है।  

यदि भारत में 2011 के जनगणना सम्बन्धी आंकड़ों को देखें तो उसके अनुसार देश में करीब 19,569 भाषाएं या बोलियां बोली जाती हैं। इनमें से 121 भाषाएं ऐसे हैं जिनको बोलने वालों की आबादी 10 हजार या उससे ज्यादा है, जबकि बाकी के जानकर 10 हजार से भी कम है, कुछ भाषाओं के जानकारों की संख्या तो बस इतनी है जिन्हें उंगलियों पर गिना जा सकता है। इतना ही नहीं कई भाषाओं के जानकारों की आबादी तो तेजी से घट रही हैं। एक सर्वेक्षण के मुताबिक भारत ने पिछले पांच दशकों में अपनी 20 फीसदी भाषाओं को खो दिया है।   

सिर्फ भाषाएं ही नहीं उनके साथ उनमें संजोया ज्ञान भी हो जाएगा विलुप्त

पारम्परिक भाषाओं के विलुप्त होने का यह खतरा हमारे लिए कितना नुकसानदेह है इसका अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि इन भाषाओं के साथ उनमें हमारे पुरखों का संजोया ज्ञान भी विलुप्त होता जा रहा है। इस बारे में यूनिवर्सिटी ऑफ ज्यूरिच के शोधकर्ताओं द्वारा किए एक शोध से पता चला है कि जैसे-जैसे स्थानीय पारम्परिक भाषाई विविधता खत्म हो रही है, उसके साथ ही सदियों पुराने उपचार और औषधीय पौधों का ज्ञान भी समाप्त होता जा रहा है।  देखा जाए तो जब कोई भाषा खोती है तो हम उस भाषा के लिए बड़ी सहजता से कह देते हैं कि वो भाषा अब नहीं बोली जा रही, लेकिन हमें समझना होगा कि हम उस भाषा के साथ अपनी मानव सांस्कृतिक विविधता का एक हिस्सा भी खो देते हैं।

 शोधकर्ताओं के मुताबिक जिन भाषाओं के बारे में सदी के अंत तक लुप्त होने की भविष्यवाणी की है उनमें से कई के जानकार अभी भी इस दुनिया में हैं। ऐसे में हमारे पास अभी भी उन स्वदेशी भाषाओं को पुनर्जीवित करने का एक मौका बचा है। इसकी मदद से हम आने वाली पीढ़ियों को अपने पूर्वजों का संजोया हुआ ज्ञान तोहफे में दे सकते हैं। 

Spread the information

Leave a Reply

Your email address will not be published.