हर साल 14 नवंबर को ‘वर्ल्ड डायबिटीज डे’ मनाया जाता है और डायबिटीज को लेकर जागरूकता फैलाई जाती है. आइए जानते हैं ‘विश्व मधुमेह दिवस’ के बारे में. हर साल ‘वर्ल्ड डायबिटीज डे 2022’ 14 नवंबर को सर फ्रेडरिक बेंटिंग की जन्म तिथि पर मनाया जाता है. सर फ्रेडरिक बेंटिंग ने चार्ल्स हरबर्ट के साथ मिल कर इंसुलिन हार्मोन की खोज की थी. एक्सपर्ट्स के मुताबिक, आज लगभग 463 मिलियन लोग डायबिटीज से जूझ रहे हैं. इन 90% डायबिटीज के मरीजों को टाइप-2 डायबिटीज है. हेल्थ प्रोफेशनल के एक अनुमान के अनुसार, इतनी तेजी से डायबिटीज के बढ़ते केस व्यक्ति की समय से पहले मृत्यु का कारण बन सकते हैं, इसलिए इस बीमारी के बारे में जागरूकता फैलाना काफी ज़रूरी है, जिससे लोग बचाव के टिप्स अपना सकें. डायबिटीज होने पर उसे कंट्रोल कर सकें. 

 

क्या है डायबिटीज ?

सरल शब्दों में बताए तो डायबिटीज वह बीमारी है जब शरीर के पैन्क्रियाज में इंसुलिन की कमी हो जाती है. इंसुलिन की कमी होने की वजह से खून में ग्लूकोज की मात्रा ज्यादा होने लगती है और इसी को डायबिटीज कहा जाता है. इंसुलिन एक तरह का हार्मोन है जो शरीर के अंदर पाचन ग्रंथि से बनता है, जो हमारे खाने को ऊर्जा में बदलने के काम करता है.

 

वर्ल्ड डायबिटीज डे 2022 की थीम

वर्ल्ड डायबिटीज डे की इस साल की थीम एक्सेस टू डायबिटीज एजुकेशन (Access to Diabetes Education) है. डायबिटीज एक तरह का मेटाबोलिक डिसऑर्डर होता है. इस बीमारी के बारे में शिक्षा के माध्यम से जागरूकता फैलाई जा सकती है, इसलिए कुछ डायटरी बदलावों और नियमित रूप से एक्सरसाइज करके व्यक्ति अपने आप को इस बीमारी के रिस्क से बाहर ला सकता है.

 

वर्ल्ड डायबिटीज डे का इतिहास

इंटरनेशनल डायबिटीज फाउंडेशन द्वारा ही इस दिन को तय किया गया था. 1991 से इसे वैश्विक दिन के रूप में यूएन से पहचान मिली और सबको यह समझ आने लगा कि यह एक काफी गंभीर बीमारी है.

 

 

वर्ल्ड डायबिटीज डे का महत्त्व

डायबिटीज डे को मनाना इसके बारे में जागरूकता फैलाने के लिए ज़रूरी है, ताकि सब लोगों को इसके लक्षणों और कब से उपचार करवाना शुरू करना है, इस बारे में पता चल सके. इस समय लोगों के पास डायबिटीज से लड़ने के लिए हेल्थ केयर सुविधा है या नहीं, इस बारे में भी जानकारी दी जाती है.

 

डायबिटीज के लक्षण

मधुमेह से पीड़ित लोगों को बार-बार प्यास लगान, बार-बार पेशाब आना, पेट दर्द होना, कमजोर या थका महसूस करना, बार-बार यूटीआई की समस्या होती है. डायबिटीज में लिवर प्रभावित होता है. यह बहुत खतरनाक बीमारी होती है. इसके लक्षण मिलने पर अनदेखा न करें. बल्कि गंभीरता से लेते हुए विशेषज्ञ चिकित्स से परामर्श लें.

 

डायबिटीज कंट्रोल करने के उपाय

हर रोज व्यायाम कर कार्बोहाइड्रेड के सेवन को नियंत्रित करें. शरीर के वजन को कंट्रोल में रखें. फाइबर वाले आहार का सेवन करें. हर रोज नियमित अंतराल में हल्का भोजन करें.  भरपूर मात्रा में पानी पिएं, भरपूर नींद लें. भोजन में साइडर सिरक, दालचीनी, क्रोमियम और मैग्रीशियम को शामिल करें.

Spread the information

Leave a Reply

Your email address will not be published.